101% 3 दिन में बवासीर का इलाज बाबा रामदेव उपाय नुस्खे पड़ें

baba ramdev piles home remedies in hindi, bawaseer ka ilaj baba ramdev in hindi, piles treatment by baba ramdev in hindi, baba ramdev ka bawaseer ka ilaj
101% 3 दिन में बवासीर का इलाज बाबा रामदेव उपाय नुस्खे पड़ें
Rate this post

बवासीर का इलाज इन हिंदी में क्या है बताये अचूक नुस्खे :- Bawaseer आज के समय में काफी बढ़ता जा रहा हैं, यह काफी कष्टप्रद रोग हैं, जिसका जल्द ही शुरूआती स्टेजेस में ही उपचार इलाज करना फायदेमंद होता हैं. यहां हम आपको ऐसे ही बाबा रामदेव के उपाय और रामबाण घरेलु नुस्खे बताने जा रहे हैं. जिनके जरिये आप घर पर ही कुछ ही दिनों में लाभ अनुभव करने लगेंगे.

Khuni & badi bawaseer – अगर आपका बवासीर बहुत ज्यादा पुराना हैं या फिर वह गंभीर हो गया हैं तो यह आयुर्वेदिक नुस्खे व (Bawaseer ka ilaj ke upay) उसका इलाज करने में थोड़ा समय जरूर लेंगे. ऐसे गंभीर रोग एक दम से 2-3 दिन में ही ठीक नहीं हो जाते हैं, हाँ अगर आपकी बवासीर की बीमारी अभी नई हैं और ज्यादा फैली नहीं हैं तो यह 2-3 दिन में ही उसका जड़ से अचूक इलाज कर देंगे. यह खुनी बादी (badi) बाबा रामदेव का बवासीर से छुटकारा पाने के तरीके आपको बहुत लाभ करेंगे.

बताये बवासीर का इलाज के अचूक उपाय

Bawaseer ka ilaj in Hindi By Baba Ramdev

bawasir ka ilaj in hindi, बवासीर का इलाज,

Tips : अनियमित जीवन शैली से पनपने वाला बवासीर रोग में व्यक्ति को ज्यादा देर एक स्थिति में बैठना व खड़े नहीं रहना चाहिए, मांस व तली गली चीजों से बचना चाहिए साथी ही सुबह शाम पैदल चलना चाहिए.

बवासीर रोग में  भोजन ऐसा करना चाहिए जिससे मल त्याग करते समय जोर न लगाना पड़ें, इसलिए भोजन को चबा-चबाकर अच्छे से करे, बवासीर क्या है ? पढ़िए सब कुछ. बाबा रामदेव के उपायों से कई खुनी बवासीर और बादी बवासीर दोनों तरह के रोगियों का अचूक इलाज हुआ है.

नीबू और दूध

lemon and milk for piles in hindi

बाबा रामदेव शिविर – जो बवासीर का रोग हैं, पिछले 20 सालों में हमने लाखो लोगों पर प्रयोग किया हैं. तो बवासीर के लिए नींबू को ठन्डे दूध (धारोष्ण दूध) के साथ सुबह सुबह खाली पेट पीला दें (lemon and milk for piles home remedies).

एक नींबू, ठंडा दूध (ठंडा दूध यानी उसका तापमान ठंडा होना चाहिए) एक बात और याद रखे फ्रिज का ठंडा दूध इस्तेमाल न करे, वैसे तो आपको इस बात का हमेशा ही विशेष ध्यान रखना चाहिए की फ्रिज में रखे ठन्डे दूध का सेवन बिलकुल भी न किया जाए.

इसके बदले अगर किन्ही को ठंडा दूध पीना पसंद हैं तो वहां दूध को थाली या बड़े बर्तन में रख कर ठंडा कर के सेवन कर सकते हैं. तो हम बात कर रहे थे बवासीर के घरेलु नुस्खे की, तो एक नींबू को एक कप ठन्डे दूध में सुबह खाली पेट पीजिये.

ऐसे लगातार 7 दिन प्रयोग करने से, (वैसे तो तीन ही दिन में लोगों की बवासीर अच्छी हो जाती हैं, लेकिन 7 दिन यह प्रयोग करने से हमने देखा करीब-करीब 99% लोगों की बवासीर अच्छी हो जाती हैं (अगर आपका बवासीर 7 दिन में पूरी तरह ठीक न हो तो इन नुस्खों का प्रयोग आप लम्बे समय तक कर सकते हैं जब तक आपका पाइल्स ठीक न हो जाए), बाबा रामदेव का बवासीर के लिए उपाय इलाज आयुर्वेदिक).

बवासीर के इस प्रयोग हजारों मेरे पास में रिपोर्ट्स हैं. पहले में इसको बहुत बताया करता था, आजकल में घरलू उपचार थोड़े कम बता पाता हूं. लेकिन किताबों में भी हमने लिख रखा हैं.

हमने अभी शिविर में करीबन 250 लोगों का बवासीर इसी आयुर्वेदिक नुस्खे से ठीक किया हैं, और आप देख सकते हैं बवासीर से ग्रसित रह चुके यह सभी लोग आपके सामने ही बैठे हुए हैं.

किसी औषधि का तो 25-50 लोगों पर प्रयोग करलो तो वह Clinically फ़ीट मानी जाती हैं, किसी भी Medicine tablet का क्लीनिकल कण्ट्रोल होता हैं 50, यानी अगर किसी medicine 50 लोगों का इलाज हो जाता हैं तो फिर वह उसे मार्किट में लांच कर देते हैं, लेकिन यहां तो 400-500 लोगों पर प्रयोग किया जा चूका हैं, और यह सभी इस इलाज से संतुष्ट भी हैं.

  • पाइल्स का प्राकृतिक रूप से कैसे उपचार किया जाना चाहिए, व प्रकृति रूप से उपचार करने के कौन-कौन से तरीके होते हैं, यह बाते जानने के लिए यह जानकारी जरूर पड़ें. यहां पर बवासीर को प्राकृतिक रूप से दूर करने के तरीके बताये गए हैं, जो की एक रोगी को जरूर पता होना चाहिए >> Piles Natural Treatment 12 Ways in Hindi

केला और कपूर से करे 

दूसरी बात बवासीर के लिए यह औषधि हमको 20-22 साल पहले सूरत में कोई देते थे, वो किसी को बताते नहीं थे.

ऐसे ही लेकिन हमने इसका पता किया तो लग गया हमने औरों को भी बता दिया. एक दूसरा प्रयोग हैं बवासीर के लिए, खाने वाला कपूर होता हेना, एक तो होता हैं जलने वाला कपूर यह तो अच्छा नहीं होता हैं, यह खाने के काम का नहीं होता हैं.

उसको बोलते हैं भीम सैनी कपूर (देसी कपूर) तो देसी कपूर को एक केले में डालकर, यानी केले को बिच में से थोड़ा सा काट लें और उसमे यह देसी कपूर बारीक कर के डाल दें.

तो इस तरह कपूर मिलाकर केले को निगल जाए. क्योंकि ऐसे ही कपूर खाया जाए तो वह दांतों को बहुत नुकसान करता हैं. ये मात्रा तीन दिन खाली पेट देना हैं. यह हमारे गुरूजी दिया करते थे. यह बवासीर में बहुत लाभ करती है.

नाग दोन

यह बात होगी करीबन तिस साल पहले की फिर हमने भी बहुत लोगों को इसका प्रयोग करवाया. ज्यादा कपूर नहीं देना चाहिए, बस चने के बराबर.

एक पत्ता होता हैं नाग दोन. नागदोन का पत्ता अक्सर लोग अपने घरों में गमले में लगाकर रखते हैं, बहुत हरा-हरा होता हैं.

खुनी बवासीर व अन्य किसी भी तरह की ब्लीडिंग हो रही हो नाग दोन के तीन से चार पत्ते चबालों और ऊपर से पानी पलों.

मेने अपने हाथों से सैकड़ों लोगों को दिया हैं. कैसी भी ब्लीडिंग हो तीन दिन के अंदर बंद हो जाती हैं (खुनी बवासीर bleeding piles) और बवासीर ठीक हो जाती हैं. जिन्होंने में भी बवासीर का इलाज घरेलु बताये ऐसा पूछा था उनके लिए यह उपाय बहुत अचूक है.

खुनी बवासीर का अचूक इलाज जड़ से

बवासीर पाइल्स फीटसूला की समस्या बहुत ही कष्टदायक होती हैं और इसके लिए ऑपरेशन करवाते हैं,ऑपरेशन करवाने के बाद फिर से बवासीर हो जाती हैं, फिर क्या करे.

पाइल्स फीटसूला के लिए सबसे अच्छा हैं कपालभाति प्राणायाम. कपालभाति प्राणायाम करने से पाइल्स फीटसूला तो ठीक होता ही हैं साथ ही भगन्दर जिसके लिए कई बार ऑपरेशन भी कामयाब नहीं होता हैं.

और ऑपरेशन करने के बाद दुबारा से भगन्दर हो जाता हैं, बहुत बुरी स्थिति हो जाती हैं. और ऐसी परिस्थिति में हमने देखा कपालभाति प्राणायाम आधा-आधा घंटा करवा दिया. जब बवासीर पाइल्स की बहुत ज्यादा प्रॉब्लम होती हैं. Anus यानी मलद्वार के पास एक नली तैयार हो जाती हैं, उसमे मस्से हो जाते हैं भयंकर दर्द होता हैं.

Kapalbhati Pranayama

बवासीर में तो मस्से फूलते ही हैं और फिर फिशर में तो मस्सों में मोती-मोती दरारे पढ़ जाती हैं. ऐसी स्थिति में कपालभाति प्राणायाम बाह्मी प्राणायाम जबरदस्त लाभप्रद होते हैं.

इसमें अग्निशारक क्रिया भी लाभ देती हैं और साथ-साथ में अश्विनी मुद्रा मतलब जिससे अश्व लेटरिंग करने के बाद जब anus खींचता हैं व ढीला छोड़ता हैं वैसे ही anus को ढीला छोड़ना व कसना अर्थात मूलबंध लगाना और ढीला छोड़ना यह क्रिया करने से भी बवासीर में बहुत लाभ होता हैं.

  • घरेलु उपचार के तौर पर बवासीर में आप 100 ग्राम हरड़, 100 शुद्ध रसोत इन सभी का पाउडर कर 1-2 ग्राम सुबह शाम छाछ के साथ लें, बहुत लाभ होगा.
  • बवासीर से छुटकारा पाने के लिए नारियल की दाढ़ी (यानी नारियल का छिलका) का पाउडर कर 1-2 ग्राम को छाछ के साथ नियमित रूप से कुछ दिनों तक ले. खुनी बवासीर में 100% लाभ होगा.
  • आंवला ओलिवेरा जूस नियमित रूप से पिने से भी बवासीर, फीटसूला पूरी तरह ठीक हो जाते हैं.
  • तली हुई चीजों से बचे, गरम चीजों से भी बचे, हरी सब्जियों का सेवन ज्यादा करे, सुबह उठकर के पानी जरूर पिए, बेंगन गरम मसाले ज्यादा मिर्च, अचार इन से बचेंगे तो आपको बवासीर की बीमारी से जल्द ही छुटकारा मिलेगा.

Continue Reading – Next Page 

पुराने से पुराने बवासीर में 7 दिन तक हर नुस्खे का प्रयोग जरूर कर के देखे. इनके के साथ ही कपालभाति अश्विनीमुद्रा भी करे. यह रामबाण हैं, पतंजलि बवासीर के मस्से ठीक करने में सरल व प्राकृतिक तरीके से “Khooni Or Badi Bawaseer ka gharelu upchar” में दोनों ही असरकारी है . इसके साथ ही यहां बवासीर पर दिए गए सभी लेख भी जरूर पड़ें, ताकि आपको बवासीर के बारे में पूरी तरह से जानकारी हो जाए.

मित्रों आपको जो यह बादी और खुनी बवासीर का इलाज इन हिंदी के उपाय badi bawaseer ka ilaj in Hindi कैसे लगे है, यह आयुर्वेदिक नुस्खे व उपाय के बारे में पढ़कर कैसा लगा आदि कमेंट के माध्यम से हमे बताये. साथ ही इसे खूब शेयर करे ताकि यह सभी जरूरतमंद लोगों तक आसानी से पहुंच जाए, इसके अलावा इस पोस्ट का अगला पेज भी जरूर पड़े.

आयुर्वेद एक असरकारी तरीका है, जिससे आप बिना किसी नुकसान के बीमारी को ख़त्म कर सकते है। इसके लिए बस जरुरी है की आप आयुर्वेदिक नुस्खे का सही से उपयोग करे। हम ऐसे ही नुस्खों को लेकर आप तक पहुंचाने का प्रयास करते है - धन्यवाद.