साइटिका का जड़ से इलाज 5 उपाय और दवा – Sciatica in Hindi

sciatica in hindi, sciatica pain treatment in hindi, sciatica treatment in hindi
Sending
User Review
3 (2 votes)

साइटिका का इलाज की दवा और घरेलु उपाय इन हिंदी – इसका दर्द “पैन” असहनीय होता हैं. इसमें पैरों की जांघों, कूल्हों में अचानक सुई की चुभन सा तेज दर्द पैदा होता हैं. यह दर्द ज्यादातर 31 से 55 साल की उम्र वाले व्यक्तियों में देखने को मिलती हैं. हमारे शरीर में साइटिका नर्व (Sciatica nerve pain) होती हैं जो की कमर से गुजरती हुई कूल्हों, जांघों के पिछले हिस्से से हो कर पैरों के निचे की तरफ जाती हैं.

  • जब किसी कारणवश इस नर्व में दबाव या कोई तकलीफ होती हैं तो Sciatica nerve में अचानक से तेज दर्द पैदा होता हैं इसी दर्द को साइटिका कहते हैं. हम यहां आपको इस रोग के आयुर्वेदिक उपचार के लिए उपाय व नुस्खे बताएंगे जिनके जरिये आप इस दर्द से घर पर ही छुटकारा पा सकेंगे. इसके दर्द को ख़त्म करने के लिए कई रोगी साइटिका में अंग्रेजी दवा का सेवन भी करते है लेकिन वह भी पूरा आराम नहीं कर पाती है.
  • साइटिका में योग, एक्सरसाइज, मालिश, सेंक यह रामबाण इलाज का काम करती हैं. इसमें विशेषकर योग और साइटिका नर्व पर तेल की मालिश करना होती हैं आइये जाने इसी रोग के sciatica pain treatment in Hindi के बारे में.
  • साइटिका का दर्द ठण्ड के वजह से, मेरुदंड के वजह से, स्लिप डिस्क में कोई समस्या होने से, भारी वजन उठाने से, किसी दुर्घटना के वजह से, herniated disk के वजह से आदि इन कारणों से साइटिका में दर्द उठता हैं. यह दर्द एक दम से आता है, तेज दर्द होता है और ऐसा लगता हैं जैसे कोई सुई चुभी हो.
  • पोस्ट को पूरा ध्यान से पड़ें, निचे दिए पोस्ट भी पड़ें : जल्दबाजी न करे.

 

साइटिका का इलाज के उपाय और दवा

Ayurvedic Sciatica Treatment in Hindi

sciatica treatment in hindi, sciatica ka ilaj, sciatica ka ilaj in Hindi

करीबन चार लहसुन की कलियां लें और 210ML दूध ले. अब एक बर्तन में दूध को डालकर इसमें लहसुन की कलियों को चाक़ू से काटकर दूध में दाल दें. अब इसे अच्छे से उबलने दें फिर थोड़ी देर उबलने पर इसमें मिठास के लिए शक्कर डाल दें और इसे घुलने दें. अब गैस से उतारकर रख दें व पिने लायक ठंडा होने पर इसको रोगी को पीला दें ऐसा रोजाना करना चाहिए जब तक दर्द दूर न हो जाये. यह अचूक उपाय साइटिका की दवा की तरह काम करता हैं जो की बहुत ही sciatica (ka gharelu ilaj) प्रसिद्द हैं.

  • हर-श्रृंगार पौधे के ताजे पत्ते पीस कर एक गिलास पानी में उबाल लें, जब आधा गिलास पानी बचे तो उसको छान कर रोजाना पिए ऐसा एक सप्ताह तक करे
  • 10 ग्राम जायफल 100 ग्राम तिल के तेल में मिलाकर पका लें, पके हुए तेल से कमर पर मालिश करे
  • 310 ग्राम आलू का रस रोजाना दो-तीन महीने तक पिने से बहुत आराम मिलता हैं. (गाजर का रस मिलकर भी इसका सेवन कर सकते हैं और भी ज्यादा असरकारी हो जायेगा)
  • 2 चम्मच शहद को एक नींबू के रस में मिलाकर पिने से साइटिका का दर्द दूर होता हैं.
  • साइटिका का तेल – 2-3 लहसुन लें और इसको थोड़े लहसुन के तेल में डालकर पकाये, जब अच्छे से पक जाए तो इस तेल से दर्द वाली जगह पर मालिश करने से तुरंत आराम मिलता हैं, यह तुरंत असरकारी साइटिका का अचूक उपाय हैं.
  • रोजाना एक दिन में 2-3 लहसुन की कलियों को पानी के साथ निगले इससे भी साइटिका पैन ट्रीटमेंट में सहायता मिलती हैं.
  • गर्म ठंडा सेंक – सबसे पहले बर्फ के टुकड़े करके एक कपड़े में बांधकर दर्द वाली जगह पर इससे सेंक करे 10 मिनट तक ऐसा करने के बाद एक सूती कपडा लें और इसे गैस की आंच में सेंके जब यह हल्का गर्म हो जाए तो दर्द वाली जगह पर इससे सेंक करे इस तरह गर्म और ठंडा दोनों सेंक को 10-10 तक करने से दर्द से राहत मिलती, साइटिका के दर्द का उपचार करता हैं व साइटिका नर्व की सूजन को ख़त्म करता हैं.

हारसिंगार के पत्तों का काढ़ा है साइटिका की दवा

  • साइटिका का इलाज में हारसिंगार (पारिजात) के पत्ते 260 ग्राम की मात्रा में लेकर अच्छे से साफ़ कर लें और 1 लीटर पानी में उबाले. अब पानी जब उबलकर 600ML तक बचे तो गैस से उतारकर कपडे से छान लें. पत्तियों को हटा दें और पानी में 2 रत्ती केसर मिलाकर अच्छे से मिला दें.
  • अब इस पानी को किसी बोटल में भर कर रख दें व रोजाना नियमित रूप से सुबह शाम को 1 कप की मात्रा में सेवन करे.
  • यह उपाय साइटिका का आयुर्वेदिक इलाज हैं जो की इस तरह 2-3 बोटल का सेवन कर लेने पर रोग जड़ से चला जाता हैं.
  • नोट: इस प्रयोग को वसंत ऋतू में न करे.

गूगल, गुड़, रसोत इन सभी के एक सामान मात्रा में ले और इनमे लोबान मिला दें, अच्छे से घोंटें और फिर गैस पर रख कर थोड़ा गर्म कर लें. अब इसे दर्द वाली जगह पर लगाए और सूखने के लिए छोड़ दें रोजाना इस प्रयोग को करने से बहुत आराम मिलता हैं.

योग करे

  • साइटिका में योग बहुत ही जरुरी हैं, इससे शरीर में मजबूती आती हैं जिससे साइटिका नर्व भी मजबूत होती हैं. इसके लिए आप रोजाना सुबह के समय 10-15 योगासन करे, शरीर में खिंचाव पैदा करने वाले आसान करे, स्ट्रेचिंग करे. अगर आपको पता नहीं हैं की साइटिका में कौन-कौन से योग एक्सरसाइज करना चाहिए तो यह जानकारी अवश्य पड़ें – साइटिका के लक्षण और योग इस पोस्ट को पूरा पढ़ लेने के बाद यह एक बार जरूर पड़ें.

साइटिका में क्या खाना चाहिए

  • ऐसा आहार लें जिसमे ज्यादा मात्रा में फाइबर पाया जाता हो : गेहूं की रोटी, भूरे चावल, दाल, सफ़ेद लोकि, अनार, अंजीर, सेब, ब्लैकबेरी, मटर आदि वह सभी भोजन करे जिसमे फाइबर ज्यादा मात्रा में हो.
  • मैग्नीशियम से भरपूर आहार लें : डेरी प्रोडक्ट्स, दूध और अगर आप मांसाहारी हैं तो मछली, समुद्री भोजन, खुबानी, लिमा बीन्स आदि का खाये. तेज भोजन, मिर्च मसाले, अंडे, मुर्गी आदि के सेवन से साइटिका में परहेज करे.
  • Omega 3 Fatty Acids : यह हड्डियों की मजबूती के लिए बहुत जरुरी हैं, इसके लिए आप अखरोट, सल्मोन मछली, टूना मछली आदि मछलियों का सेवन करे इनमे सबसे ज्यादा Omega 3 Fatty Acids पाया जाता हैं.
  • हल्का आहार लें, ऐसा भोजन न करे जो की कब्ज की शिकायत पैदा करता हो, दूध, फलों का रस आदि का ज्यादा सेवन करे व बताये गए साइटिका के नुस्खे इसे ठीक करते रहे  इस तरह आपको थोड़े दिनों में ही आराम महसूस होने लगेगा.

आप ऊपर बताये गए ऊपर पर जरूर ध्यान दें, और इन्हे एक बार जरूर करे. अगर आप नियम से उनको करते है तो आपका रोग जरूर ठीक होगा. वह सभी बहुत ही असरकारी और रामबाण नुस्खे है इनसे कई लोगो को लाभ भी मिला है.

दोस्तों इस तरह साइटिका का उपचार के घरेलु उपाय और दवा sciatica treatment in Hindi कर आप इससे बच सकते हैं, रोजाना नियमित रूप से इनका प्रयोग करे. यह सभी 100% आयुर्वेदिक दवाई की तरह असर करेंगे आप प्रयोग कर के देखें.

साइटिका का आयुर्वेदिक इलाज, sciatica ke gharelu upay, sciatica ke gharelu nuskhe

Share करने के लिए निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करें. (जरूर शेयर करे ताकि जिसे इसकी जरूर हो उसको भी फायदा हो सके)
आयुर्वेद एक असरकारी तरीका है, जिससे आप बिना किसी नुकसान के बीमारी को ख़त्म कर सकते है। इसके लिए बस जरुरी है की आप आयुर्वेदिक नुस्खे का सही से उपयोग करे। हम ऐसे ही नुस्खों को लेकर आप तक पहुंचाने का प्रयास करते है - धन्यवाद.