60 रुपए में टाइफाइड जड़ से ख़त्म करने की दवा मेडिसिन

typhoid medicine,
Sending
User Review
3.33 (3 votes)

टाइफाइड की दवा का नाम इन हिंदी आज हम आपको ऐसी टेबलेट के बारे में बताने जा रहे है जिसके प्रयोग से आपको जिंदगी में दुबारा कभी टाइफाइड बुखार नहीं होगा. यह दवा सिर्फ टाइफाइड ही नहीं बल्कि सभी तरह के बुखार को जड़ से नष्ट कर देती हैं. जिस-जिस व्यक्ति ने भी यह टेबलेट ली है उसने धन्यवाद ही कहा हैं, क्योंकि इसके सेवन से टाइफाइड जड़मूल नष्ट हो जाता हैं. टाइफाइड एक बैक्टीरिया कीटाणु के वजह से होता है. इसे हमारी भाषा में मोतीझरा भी कहते हैं, इसके लक्षण व कारण आप यहाँ पर पढ़ सकते हैं : – टाइफाइड के लक्षण

अक्सर रोगी एलॉपथी की दवा का प्रयोग करता है, लगातार 15-20 दिनों तक इन दवाइयों को लेते रहने से भी कई रोगियों को पूर्ण आराम नहीं होता है और कुछ का टाइफाइड चला जाता है. लेकिन आपने देखा होगा की कुछ 1-2 साल यह कुछ समय बाद रोगी को दुबारा बुखार आ जाता है. बार-बार टाइफाइड होने लगता हैं. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि एलॉपथी की दवाइयों टाइफाइड को दबाती है उसे जड़ से नष्ट नहीं करती इसी वजह से टाइफाइड का बैक्टीरिया शरीर की आंतों में रह जाता है.

ऐसे में वह बैक्टीरिया शरीर में फिर से विकसित हो जाता है और कुछ सालों या महीनो में रोगी को फिर से बुखार बन जाता हैं. हम जो दवा बताने वाले है वह “baidyanath medicine for typhoid” से भी कई गुना असरकारी हैं. यह गिलोय घनवटी की तरह लाभ करती हैं.

दोस्तों हमसे हजारों लोगों की शिकायते आई है, वह कहते है मेरा बुखार जाता नहीं है वह बार-बार आता है हमने डॉक्टर को भी दिखा लिया है आदि. ऐसे में हमे बड़ा असंतोष होता हैं लेकिन हम कर भी क्या सकते है आपको सिर्फ सुझाव ही तो दे सकते हैं.

typhoid

टाइफाइड की दवा आयुर्वेदिक बताये

Typhoid Medicine Tablet in Hindi

महासुदर्शन घनवटी यह एक ऐसी आयुर्वेदिक दवा है जिसके सेवन से टाइफाइड व सामान्य बुखार जड़ से नष्ट हो जाता है, यह बैक्टीरिया को शरीर से बाहर कर देता हैं. इसको खरीदने के लिए आप किसी भी मेडिकल स्टोर पर जाकर इस का नाम लें और इस medicine का पूरा पत्ता खरीद लाये, एक पत्ते में 30 गोलियां निकलेंगी.

आपको 40 दिनों तक इस दवा को रोजाना हलके गर्म पानी के साथ लेना हैं सुबह खाली पेट लेना है. अगर आप 40 दिनों तक रोजाना एक गोली नियमित रूप से लेते हैं तो 100% टाइफाइड आपके शरीर से विदा हो जायेगा. अगर आपका बुखार दुबारा पलट कर आया है या तेज टाइफाइड है तो आप दो गोली ले सकते हैं और सामान्य टाइफाइड में भी शुरूआती 15 दिनों तक दो गोली का सेवन कर सकते हैं.

यह महासुदर्शन घनवटी बहुत कड़वी होती है, लेकिन अगर आपको इस बीमारी को जड़ से भगाना है तो इसका सेवन करना ही पड़ेगा. इसलिए आँख बंद करके गर्म पानी के साथ इसका सेवन कर लें. बुखार उतारने के लिए दो गोली महासुदर्शन घनवटी की हलके गर्म पानी से दें, तो सभी तरह के बुखार उतर जाते हैं.

यह ऐसी चमत्कारी है की आप भी इसका प्रयोग करने के बाद इसका गुणगान करने से नहीं चूकेंगे. यह पुरे पेट की सफाई कर देती है, आंतों को साफ़ कर देती है, खून की सफाई कर देती हैं आदि पुरे पाचन तंत्र और आंतों को ऐसे साफ़ करती है जिससे उनमे जो भी बैक्टीरिया वायरस होता हैं वह जड़मूल नष्ट हो जाता हैं.

इसके अलावा अगर आपको महासुदर्शन घनवटी न मिले तो आप “गिलोय घनवटी” का भी प्रयोग कर सकते हैं. यह भी बहुत रामबाण काम करती हैं. गिलोय घनवटी की दो-दो गोली हर सुबह व शाम को ले सकते हैं. छोटे बच्चों को एक गोली ही दें. इसे भी गर्म पानी के साथ ही लेवे. लेकिन हम आपको Recommend करेंगे की आप महासुदर्शन घनवटी ही लें यह गिलोय घनवटी के मुकाबले ज्यादा और जल्दी बुखार को भगाती हैं.

typhoid ki dawa, टाइफाइड की दवा, typhoid ki medicine

टाइफाइड में यह भी करे

  • जिन लोगों ने इस दवा का सेवन किया हैं उनमे से ज्यादातर लोगों को तो दुबारा टाइफाइड आया ही नहीं और सामान्य बुखार भी उनसे दूर ही रहता हैं. इसके अलावा हमने पिछले लेखों में घरेलु नुस्खे आयुर्वेदिक उपाय भी बताये थे आप उन्हें भी पड़ें.
  • इस बुखार से शरीर में बहुत कमजोरी आ जाती हैं, इसलिए टाइफाइड की कमजोरी को ख़त्म करने के लिए व खोई हुई शक्ति को दुबारा पाने के लिए आप अपने आहार पर पूरा ध्यान दें, ऐसा भोजन करे जो हल्का हो प्रोटीन नुट्रिएंट्स भी भरपूर देता हो. इसके लिए हमने टाइफाइड सही आहार पर एक लेख भी दिया था आप उसे भी अवश्य ही पड़ें > टाइफाइड में क्या खाये OR Diet For Typhoid Fever Patients.

एलॉपथी की दवा मेडिसिन होती है बेकार

एलॉपथी की सभी दवाइयां रोगो को दबाती है वह रोगों को जड़ से नष्ट नहीं करती, बड़े आश्चर्य की बात है हमारा देश जहां आयुर्वद से बड़े-बड़े रोगों को मिटाया जा सकता है वहां हम इन घटिया एलॉपथी का इस्तेमाल करते हैं. जैसे-जैसे दुनिया आधुनिक होती जा रही है वैसे-वैसे आयुर्वेद व प्राचीन चीजे ख़त्म होती जा रही है.

चाहे बाबा रामदेव कैसे ही हो, या चाहे उनका मकसद आयुर्वेद से पैसा कमाना हो, लेकिन में तो बहुत धन्यवाद देता हूँ उन्हें क्योंकि उन्होंने ऋषि मुनियों की खोई हुई विरासत को जन सामान्य लोगों तक पहुंचाया है. पिछले सालों से ज्यादा अब लोग आयुर्वेद को जानते है व उसका प्रयोग भी करते हैं.

आपसे विनती है की आप इस लेख को खूब हर जगह SHARE करेंगे, इसके लिए आप निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर CLICK करके सभी सोशल नेटवर्क पर शेयर करे, ताकि यह जानकारी सभी लोगों तक आसानी से पहुंच जाए.

  • टाइफाइड के लिए हमने कई घरेलु इलाज भी बताये हैं, आप उन्हें भी एक बार अवश्य ही पड़ें – टाइफाइड का इलाज <

तो दोस्तों हमने आपको टाइफाइड के इलाज की आयुर्वेदिक दवा मेडिसिन typhoid medicine name in Hindi में दो तरह गोली बताई पहली महासुदर्शन घनवटी और दूसरी गिलोय घनवटी आप दोनों में से किसी एक का प्रयोग करे और बताई गई बातों पर ध्यान दें व सही भोजन करे. यह अंग्रेजी दवा और एलोपैथिक दवा से ज्यादा असरकारी है.

Share करने के लिए निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करें. (जरूर शेयर करे ताकि जिसे इसकी जरूर हो उसको भी फायदा हो सके)
आयुर्वेद एक असरकारी तरीका है, जिससे आप बिना किसी नुकसान के बीमारी को ख़त्म कर सकते है। इसके लिए बस जरुरी है की आप आयुर्वेदिक नुस्खे का सही से उपयोग करे। हम ऐसे ही नुस्खों को लेकर आप तक पहुंचाने का प्रयास करते है - धन्यवाद.